definition and Meaning of communication in Hindi complete information

Meaning of communication in Hindi | आज के इस लेख में हम आपको यह बताने की कोशिश करेंगे कि कम्युनिकेशन क्या होता है? कम्युनिकेशन का अर्थ और कम्युनिकेशन करने के कितने तरीके होते हैं ( ways and types of communication in Hindi ).

meaning of communication in Hindi
meaning of communication in Hindi

हम अपनी दैनिक प्रक्रियाओं में कम्युनिकेशन का इस्तेमाल तो करते ही हैं पर कुछ लोगों को इसके बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती है की कम्युनिकेशन किस तरह से किया जाता है, कैसे एक अच्छी कम्युनिकेशन स्किल हमारे काम को बड़ा ही आसान बना देती है. 

तो आज उसी के लिए मैं यह पोस्ट meaning of communication in hindi लिख  रहा हूं. आप पूरे अंत तक जरूर पढें.

Table of content :

  • definition of communication in Hindi
  • meaning of communication in Hindi
  • ways of communication in Hindi
  • rypes of communication in Hindi
  • communication process in hindi



meaning of communication in Hindi


Communication शब्द लैटिन भाषा के एक शब्द communicare से लिया गया है. अगर हिंदी भाषा में इसका अनुवाद किया जाए तो इसका मतलब होता है संचार.

हम कम्युनिकेशन की व्याख्या से इसके बारे में ज्यादा जानकारी ले सकते हैं तो सबसे पहले मैं आपको कम्युनिकेशन की definition बता देता हुं.


definition of communication in Hindi


जिस माध्यम के जरिए हम अपने विचारों को, अपनी बातों को दूसरे के साथ share कर सकते हैं, उन तक पहुंचा सकते हैं उसे कम्युनिकेशन कहा जाता है.

हमारी आवाज और हमारी भाषा हमें दूसरे लोगों के साथ कम्युनिकेशन करने में बहुत मदद करती हैं. हम अपने विचारों को अपनी बातों को बड़ी ही आसानी से भाषा के जरिए दूसरे लोगों तक पहुंचा सकते हैं.

केवल मनुष्य ही नहीं बल्कि पशु-पक्षी भी एक दूसरे से कम्युनिकेशन करते हैं. केवल भाषा से या बोलने से ही कम्युनिकेशन नहीं होता है और भी कई तरीके होते हैं जिसके जरिए हम कम्युनिकेशन कर सकते हैं. पशु पक्षियों का अपना एक अलग माध्यम होता है. इसके जरिए वह भी अपने विचारों को दूसरे पशु पक्षी के साथ शेयर करते हैं.

कम्युनिकेशन करने के लिए किसी दो व्यक्ति का एक ही स्थल पर होना आवश्यक नहीं है. अगर एक व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति से communicate करना चाहता है और वह व्यक्ति बहुत दूर है तब भी वह communicate कर सकते हैं.

ऐसे समय में कम्युनिकेशन करना पहले के जमाने में बहुत मुश्किल हुआ करता था क्योंकि तभी सूचनाओं का आदान प्रदान करने की इतनी आधुनिक सुविधा नहीं थी. और संदेश को एक जगह से दूसरी जगह तक पहुंचने में काफी समय लगता था और इससे संचार होने में भी समय लगता था.

पर आज जमाना बदल गया है. हम अपने संदेश को बस कुछ ही सेकेंड के अंदर किसी दूसरे व्यक्ति तक पहुंचा सकते हैं. आज हमारे पास मोबाइल है, कंप्यूटर है, ईमेल की सुविधा है, मैसेंजर एप की सुविधा है जिसके जरिए हम किसी दूसरे देश में बैठे हुए व्यक्ति से भी महज कुछ सेकेंड के अंदर ही communicate के कर सकते हैं.

क्या आपने यह पढां : इंग्लिश सीखने का सही तरीका कौन सा है.

मैं आपको बताता हूं कि कम्युनिकेशन करने के कितने तरीके होते हैं - ways of communication in Hindi.


ways of communication in Hindi


1. Language (भाषा) :

आपको हिंदी भाषा आती है पर आप जिस व्यक्ति के साथ बात करना चाहते हैं अगर वह व्यक्ति को हिंदी भाषा नहीं आती है, तो आप उस व्यक्ति के साथ भाषा के जरिए कम्युनिकेशन नहीं कर सकते. 

आप जिस माध्यम के जरिए, जिस भाषा के जरिए संचार करना चाहते हैं तो सामने वाला व्यक्ति या समूह उस माध्यम को, उस भाषा को अच्छी तरह से समझता होना चाहिए. तभी आपके विचार उन तक पहुंच पाएंगे.

2. इशारो से बातचीत :

भाषा के अलावा आप इशारों के जरिए भी एक दूसरे के साथ कम्युनिकेट कर सकते हैं. और इस तरह से संचार करने के लिए आप अपनी बातों को इशारों के जरिए दूसरों तक पहुंचा सकते हैं. जिसके लिए आप अपने हाथों का इस्तेमाल करते हैं, उंगलियों के जरिए कुछ बताने की कोशिश करते हैं, सर हिला कर हां या ना में जवाब देकर भी आप संचार कर सकते हैं. इस तरह से संचार करने के लिए आपको भाषा की जरूरत नहीं होती है.

और अभी तो कम्युनिकेशन करने का तीसरा तरीका भी आ गया है  जोकि है इंटरनेट के माध्यम से.

जब आप अपने विचारों को ई-मेल या फिर कोई भी मैसेंजर एप के जरिए मैसेज टाइप करके किसी दूसरे व्यक्ति को सेंड करते हैं और वह मैसेज दूसरा व्यक्ति पढता है और आपको रिप्लाई करते हैं तो वहां भी कम्युनिकेशन हुआ है.

इससे आपको यह अंदाजा आ गया होगा कि हम कम्युनिकेशन करने के लिए जिस माध्यम का इस्तेमाल कर रहे हैं वह माध्यम उन दोनों व्यक्ति से परिचित होना चाहिए. और इसमें आशा भी एक माध्यम ही है.

बहुत सारे लोग केवल भाषा से बातचीत करने को ही कम्युनिकेशन कहते हैं. अभी आपको कम्युनिकेशन क्या है ( what is communication in Hindi, definition of communication in Hindi ) और कम्युनिकेशन करने के तरीके ( ways of communication in Hindi ) के बारे में पता चल गया है. तो अब आगे हम यह जानते हैं कि कम्युनिकेशन यानी कि संचार कितने प्रकार के होते हैं.


Types of communication in Hindi


यह एक तरह का संचार ही है बस उन्हें कुछ भागों में बांटा गया है जो कि एक दूसरे से अलग पढ़ते हैं.


1. interapersonal communication :


जब आप अपने आप से बातचीत करते हैं, मन ही मन बातचीत करते हैं तो उसे interapersonal communication कहां जाता है. और ऐसे संचार में किसी दूसरे व्यक्ति का होना आवश्यक नहीं है क्योंकि आप खुद से ही बातचीत कर रहे हैं.

जब आप कुछ सोचते हैं, सपने देखते हैं तब आप जो अपने आप से बात करते हैं उसे ही हम interapersonal communication कहते हैं.


2. interpersonal communication :


इस तरह के कम्युनिकेशन में दो व्यक्ति का होना जरूरी है. एक व्यक्ति अपनी बात दूसरे व्यक्ति को कहता है और दूसरा व्यक्ति अपनी बात पहले व्यक्ति को कहता है. इसे ही interpersonal communication कहते हैं. और वह दो व्यक्ति किसी भी तरह से, किसी भी माध्यम से संचार कर सकते हैं फिर वह माध्यम भाषा भी हो सकता है और कोई चिन्ह या चित्र भी हो सकता है.


3. group communication :


इसके बारे में मुझे आपको ज्यादा बताने की जरूरत नहीं है क्योंकि आप इसके नाम पर से ही जान गए होगे कि इसमें मैं क्या बताने वाला हूं. जब हम ग्रुप में, जहां पर दो से ज्यादा व्यक्ति होते हैं और जब हम वहां कम्युनिकेशन करते हैं तो उसे group communication कहते हैं.

4. Mass communication :

कम्युनिकेशन का यह प्रकार बड़ा ही महत्वपूर्ण है. इसके बारे में हम थोड़ी डिटेल में जानकारी लेते हैं.


meaning of mass communication in Hindi


जब एक व्यक्ति किसी एक समूह से बातचीत करता है और अपने विचारों को उस समूह तक पहुंचाता है तो उसे mass communication कहा जाता है. सरल हिंदी भाषा में इसे समूह संचार कहते हैं.

इस तरह के संचार में ज्यादातर लोग अपने स्वाभाविक कम्युनिकेशन s kill से कुछ अलग तरह से बातचीत करते हैं. क्योंकि सामने कोई एक, दो या तीन व्यक्ति नहीं होते हैं बल्कि एक पूरा समूह होता है. और पूरे समूह से बातचीत करने के लिए उसका एक अलग तरीका होता हैं.

इसका सबसे बढ़िया उदाहरण है जब कोई नेता प्रजा को संबोधित करता है.

पर अब हम जानते हैं process of communication in Hindi के  बारे में बात होता है.

यह भी पढ़ें :



communication process in Hindi


आप communication process को समझने के लिए नीचे दिए गए ग्राफ की मदद ले सकते हैं.

communication process in hindi
communication process

1. Sender : जो व्यक्ति संदेश भेजता है उसे sender कहा जाता है. जो अपनी मन की बातों को, अपने विचारों को किसी दूसरे व्यक्ति तक पहुंचाना चाहता है उसे ही हम सेंडर कहते हैं.

2. message : sender जोकि संदेश को भेज रहा है तो वह उस संदेश में जो भी बताता है या फिर लिखता है उसे message कहते हैं.

3. Encoding : हम सूचना को समझने के लिए संकेतों का उपयोग करते हैं और उस प्रक्रिया को हम Encoding कहते हैं.

4. Receiver : जो व्यक्ति संदेशे को प्राप्त करता है उसे हम Receiver कहते हैं. आसान शब्दों में कहा जाए तो sender जिस व्यक्ति के लिए सूचना भेज रहा है उसे receiver कहा जाता है.

5. Decoding : जब Receiver मिले हुए संदेशे को समझने का प्रयास करता है उसे Decoding कहा जाता है.

6. Feedback : जब कोई व्यक्ति दूसरे किसी व्यक्ति को कोई सूचना देता है और जब सामने वाला व्यक्ति कोई जवाब देता है तो उसे हम Feedback कहते हैं.

communication process तभी कहा जाता है जब receiver कुछ feedback sender को भेजना है. अगर वह सामने वाला व्यक्ति कोई फीडबैक नहीं देता है तो communication process अधूरा है ऐसा कहा जाता है.

Noise : communication process पूरी होने में अगर कोई problem होती है तो उस प्रॉब्लम का noise कहा जात है.

चलिए इसे आसान भाषा में समझते हैं, जब आप whatsapp से अपने किसी मित्र को संदेशा भेजते हैं तो आप sender कहलाओगे और जो भी संदेश आप टाइप कर रहे हो उसे message कहा जाता है और उस message type करने की जो प्रक्रिया है उसे encoding कहा जाता है. 

जो सामने वाला व्यक्ति आपका संदेशा प्राप्त करता है उसे Receiver कहते हैं और वह व्यक्ति आपके द्वारा भेजे गए संदेश को समझने की कोशिश करता है उसे decoding कहा जाता है और वह व्यक्ति फिर से आपको कुछ जवाब देता है उसे feedback कहा जाता है.

पर मान लो जब सामने वाला व्यक्ति आपको कुछ feedback दे रहा है तब अचानक उस व्यक्ति का इंटरनेट कनेक्शन चला गया तो वह व्यक्ति आपको मैसेज नहीं भेज सकता. वह आपको मैसेज यानी की feedback भेजना तो चाहता है पर इंटरनेट कनेक्शन खत्म होने की वजह से वह आपको फीडबैक नहीं भेज पा रहा है. तो जो इंटरनेट कनेक्शन खत्म हो गया है, जोकि एक problem है उसे ही हम noise कहते हैं.

अब आप communication process in Hindi के बारे में जान चुके हैं

conclusion

मैं आशा करता हूं कि आपको यह आर्टिकल बहुत पसंद आया होगा और मैंने कोशिश की है कि मैं कम्युनिकेशन के बारे में सभी जानकारी इस लेख के जरिए आपको बताऊं. 

हमने इस लेख में कम्युनिकेशन क्या है ( what is communication in Hindi ), meaning of communication in Hindi,  कम्युनिकेशन के प्रकार ( types of communication in Hindi ), कम्युनिकेशन करने के तरीके ( ways of communication in Hindi ) के बारे में आपको सारी जानकारी दी है.

इस लेख को आप अपने मित्र को भी शेयर करें ताकि वह भी कम्युनिकेशन के बारे में जानकारी ले सके. धन्यवाद.

Previous
Next Post »