गारंटी और वारंटी में अंतर क्या है | gaurantee and warranty meaning in Hindi

गारंटी और वारंटी में क्या अंतर होता है - Difference between guarantee and warranty in Hindi।  हेलो दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में हम गारंटी और वारंटी के बीच में क्या अंतर होता है इसके बारे में आपको जानकारी देने वाले हैं. जब भी आप कोई सामान/product खरीदने के लिए दुकान पर जाते हैं तो आपको वह दुकानदार सामान दिखाता है और यह भी कहता है कि इस सामान पर इतनी वारंटी है और इतनी गारंटी है. 

Guarantee and warranty meaning in Hindi
Guarantee vs warranty

तो क्या आप जानते हैं कि वह warranty क्या होता है और guarantee क्या होती है और इन दोनों में अंतर क्या है. क्योंकि ज्यादातर लोग गारंटी और वारंटी को एक समान ही समझते हैं. पर आपको बता दें कि इन दोनों में काफी अंतर होता है. 

जिन लोगों को गारंटी और वारंटी के बारे में जानकारी होती है वह लोग तो अगर कोई महंगा सामान खरीदते हैं तो बिना गैरेंटि या वारंटी वाला सामान नहीं लेते है. तो फिर ऐसा क्यों? क्या हमें बिना वारंटी या गारंटी वाले सामान लेने चाहिए या नहीं? इन सभी सवालों के जवाब आपको इस आर्टिकल में दिए गए है. और पूरी डिटेल में समझाया गया है कि गारंटी का मतलब क्या होता है (Guarantee meaning in Hindi), वारंटी का मतलब क्या होता है (warranty meaning in Hindi) और गारंटी और वारंटी में अंतर क्या होता है.

तो चलिए शुरू करते हैं और सबसे पहले जानते हैं की वारंटी क्या होती है.

वारंटी का मतलब क्या होता है - Warranty meaning in Hindi

अगर आप किसी दुकानदार या फिर कंपनी से कोई सामान खरीदते हैं और अगर उस सामान पर आपको वारंटी दी जाती है तो इसका मतलब यह होता है कि अगर वह सामान खराब हो जाता है तो वह दुकानदार उस प्रोडक्ट को रिपेयर करके आपको देता है. और इसे ही हम वारंटी कहते है.

किसी प्रोडक्ट की वारंटी कितने समय की होती है यह निर्धारित होता है. अगर किसी प्रोडक्ट की वारंटी 1 साल की है तो इसका मतलब यह है कि अगर 1 साल के अंदर वह प्रोडक्ट खराब हो जाता है तो दुकानदार उस प्रोडक्ट को रिपेयर करके आपको देगा पर अगर 1 साल के बाद प्रोडक्ट खराब हो जाता है या उसमें किसी प्रकार की खामियां आ जाती है तो फिर दुकानदार उस प्रोडक्ट को रिपेयर करके नहीं देगा. क्योंकि उस प्रोडक्ट की गारंटी की अवधि समाप्त हो चुकी है.

हा यह बात अलग है की आप अलग से पैसे देकर रिपेयर करवा सकते है.

वारंटी का लाभ देने के लिए आपके पास उस प्रोडक्ट का पक्का बिल होना जरूरी है. अगर आपके पास बिल नहीं होगा तो आपको सामान रिपेयर करके नहीं दिया जाएगा.  इसीलिए अगर आप वारंटी वाला सामान खरीदे तो उसका बिल अपने पास संभाल कर रखें. ताकि अगर वह सामान आगे जाकर बिगड़ जाए या खराब हो जाए तो आप उसे  समय सीमा के अंदर रिपेयर करवा सकें.

अब आप जान चुके हैं कि वारंटी किसे कहते है (What is warranty in Hindi meaning). तो चलिए अब हम गारंटी के बारे में जानते हैं कि आखिर गारंटी का मतलब क्या होता है.

गारंटी का मतलब क्या होता है - guarantee meaning in Hindi

अगर कोई दुकानदार या कंपनी के द्वारा गारंटी दी जाती है तो इसका मतलब यह होता है कि अगर गारंटी पीरियड मतलब कि दिए गए समय के अंदर अगर खरीदा हुआ प्रोडक्ट बिगड़ जाता है तो दुकानदार या कंपनी के द्वारा आपको नया प्रोडक्ट दिया जाता है. इसे ही हम गारंटी कहते हैं.

warranty की तरह guarantee का भी एक समय निर्धारित किया जाता है. अगर उस समय सीमा के अंदर product खराब हो जाता है तो आप दुकानदार से नया product ले सकते हैं उस बिगड़े हुए प्रोडक्ट के बदले में. क्योंकि उस प्रोडक्ट पर आपको गारंटी दी गई है.

अगर वह product guarantee period के बाद खराब होता है तो उसके बदले में आपको नया product नहीं दिया जाएगा. जब आप सामान खरीदते हैं तो उस पर आपको गारंटी मिलती है और साथ में उस सामान की खरीदारी का बिल भी मिलता है. अगर आगे जाकर दिए गए समय के अंदर प्रोडक्ट खराब हो जाता है तो बिल दिखा कर खराब हुए प्रोडक्ट के बदले नया प्रोडक्ट ले सकते हैं. इसके लिए आपको अलग से पैसे नहीं देने होते हैं. आपको बिल्कुल नया प्रोडक्ट दिया जाएगा.

Also read:

अब आपको पता चल गया होगा कि गारंटी का मतलब क्या होता है (guarantee meaning in Hindi). तो चलिए अब हम गारंटी और वारंटी में अंतर क्या होता है इसके बारे में आपको जानकारी देते हैं. ताकि आप एक ही जगह गारंटी और वारंटी का comparison कर सके.

गारंटी और वारंटी में अंतर

जैसे कि हमने ऊपर बताया कि अगर आप कोई प्रोडक्ट खरीदते हैं तो उस पर आपको गारंटी या फिर वारंटी या फिर वारंटी और गारंटी दोनों एक साथ दी जाती है और किसी प्रोडक्ट पर तो गारंटी भी नहीं दी जाती और वारंटी भी नहीं दी जाती. तो नीचे आपको गारंटी और वारंटी में difference क्या है मतलब की वारंटी और गारंटी में क्या अंतर है इसके बारे में जानकारी दी हुई है.

  • अगर किसी प्रोडक्ट पर वारंटी दी गई है और वह प्रोडक्ट खराब हो जाता है तो दुकानदार आपको उस प्रोडक्ट को रिपेयर करके देगा जबकि अगर किसी प्रोडक्ट पर गारंटी दी जाती है और वह प्रोडक्ट बिगड़ जाता है तो दुकानदार आपको उसके बदले नया प्रोडक्ट देगा.
  • वारंटी और गारंटी दोनों में समय सीमा निर्धारित की जाती है. और उसी समय सीमा के अंदर ही आपको गारंटी और वारंटी का लाभ मिलेगा, समय सीमा के बाद कोई लाभ नहीं मिलेगा.
  • warranty period ज्यादा होता है जबकि guarantee period कम होता है.
  • अगर आप चाहें तो अलग से पैसे देकर वारंटी पीरियड को बढ़ा सकते हैं और अगर आप गारंटी पीरियड को बढ़ाना चाहते हैं तो ऐसा आप नहीं कर सकते. यह सुविधा केवल वारंटी पर ही दी जाती है.
  • ज्यादातर सामान पर आपको warranty ही दी जाती है और बहुत कम सामान पर आपको guarantee दी जाती है.
  • यह जरूरी नहीं है कि अगर किसी प्रोडक्ट पर आपको वारंटी दी जाती है तो साथ में आपको गारंटी भी दी ही जाएगी.
  • अगर हम वारंटी और गारंटी दोनों में सबसे ज्यादा फायदा किस में है यह देखें तो जाहिर सी बात है कि गारंटी में आपको ज्यादा फायदा मिलेगा और वारंटी में हमको कम फायदा मिलेगा क्योंकि अगर गारंटी होगी तो नया सामान मिलेगा और अगर वारंटी होगी तो रिपेयर करके मिलेगा.

तो गारंटी और वारंटी में यही अंतर होता है. तो अब आप जान चुके होंगे की गारंटी और वारंटी में अंतर क्या होता है, guarantee meaning in Hindi, warranty meaning in Hindi और किस में कितना फायदा मिलता है.

यह भी पढ़े:

अब जब भी आप कोई सामान खरीद ने जाए तो उस पर आपको गारंटी दी गई है या फिर वारंटी इसकी जांच जरूर करें. ज्यादातर प्रोडक्ट पर आपको वारंटी दी जाती है और कुछ प्रोडक्ट पर गारंटी दी जाती है. पर कुछ ऐसे भी सामान होते हैं जिस पर आपको किसी भी प्रकार की वारंटी या गारंटी नहीं दी जाती है.

और जब भी कोई सामान ख़रीदे तो उसका बिल जरूर ले क्योंकि अगर बिल नहीं होगा तो ना तो आपको वारंटी का फायदा मिलेगा और ना ही गारंटी का फायदा मिलेगा. इसीलिए बिल को संभाल कर जरूर रखें.

तो अब आपके मन में जो कंफ्यूजन था की वारंटी और गारंटी में अंतर क्या होता है वह दूर हो गया होगा. वारंटी और गारंटी को कभी भी एक ना समझे इन दोनों में अंतर होता है, इसे याद रखिएगा.

चलिए अब गारंटी और वारंटी से जुड़े सवाल-जवाब के बारेमे चर्चा करते है.

क्या वारंटी में सामान बदल के दिया जा सकता है?

नहीं. अगर किसी सामान की खरीदारी पर आपको वारंटी दी जाती है तो आपको केवल सामान को रिपेयर करके दिया जायेगा.

वारंटी और गारंटी कितने साल की होती है?

किसी प्रोडक्ट वारंटी क्या है और गारंटी क्या है और कितने समय के लिए है यह product के ऊपर निर्भर करता है. किसी product पर आपको ज्यादा समय की गारंटी या वारंटी मिलती है तो किसी में कम. पर ज्यादातर प्रोडक्ट की गारंटी और वारंटी 1 साल की होती है.

क्या हर प्रकार के सामन पर वारंटी और गारंटी दी जाती है?

नहीं. किसी प्रोडक्ट पर आपको वारंटी/गारंटी दी जाती है तो किसीमे नहीं भी दी जाती है.

अगर बिल न हो तो वारंटी या गारंटी का लाभ मिल सकता है?

नहीं. गारंटी या वारंटी का लाभ लेने के लिए आपके पास उस प्रोडक्ट बिल होना अनिवार्य है.

क्या warranty period के बाद product repair करके दिया जा सकता है?

नहीं. अगर सामान का warranty period समाप्त हो गया है तो उसको फ्री में रिपेयर करके नहीं दिया जायेगा. और अगर guarantee period समाप्त हो गया हो तो सामान को replace करके नहीं दिया जायेगा.

अगर दुकानदार वारंटी होने के बावजूद भी प्रोडक्ट को फ्री में रिपेयर करके ना दे तो क्या करे?

अगर अपने किसी दुकान से सामान ख़रीदा और आपको उस सामान पर वारंटी दी जाती है और समय सीमा के अन्दर अगर सामान ख़राब हो जाये और अगर आप उसे रिपेयर करवाने के लिए दुकानदार के पास जाये और वह मना कर दे तो आप उस दुकानदार के खिलाफ complaint कर सकते है. और गारंटी के case में भी आप यह कर सकते है.

इन्हें भी पढ़े:

Conclusion:

तो दोस्तों उम्मीद करते हैं की गारंटी और वारंटी के बीच क्या अंतर होता है इसके बारे में लिखा गया यह विकल्प आपको पसंद आया होगा और आपको guarantee का मतलब और warranty का मतलब क्या होता है, Guaranty meaning in Hindi and warranty meaning in Hindi की पूरी जानकारी मिल चुकी होगी.

अगर आपको फिर भी कोई सवाल पूछने हैं और अगर अभी भी आपके मन में कोई confusion है गारंटी और वारंटी के बीच में (guarantee vs warranty) तो आप हमें नीचे कमेंट करके जरूर बताइए. ताकि वह कन्फ्यूजन भी हम दूर कर सकें.

इसी तरह के आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारे ब्लॉक को जरूर फॉलो करें और इस आर्टिकल को सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें. हमारे ब्लॉग के अन्य आर्टिकल भी जरूर पढ़ें. धन्यवाद.

Previous
Next Post »